डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (जन्म १५ जुलाई, १९५८) एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो भारतीय जनता पार्टी से हैं और एक हिन्दी कवि भी हैं। वे हरिद्वार क्षेत्र से लोक सभा सांसद है और लोक सभा आश्वासन समिति के अध्यक्ष हैं, डॉ रमेश पोखरियाल जी उत्तराखण्ड राज्य के पाँचवे मुख्यमंत्री रहे हैं।

डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ मौलिक रूप से साहित्यिक विधा के व्यक्ति हैं। अब तक हिन्दी साहित्य की तमाम विधाओं (कविता, उपन्यास, खण्ड काव्य, लघु कहानी, यात्रा साहित्य आदि) में प्रकाशित उनकी कृतियों ने उन्हें हिन्दी साहित्य में सम्मानजनक स्थान दिलाया है। राष्ट्रवाद की भावना उनमें कूट-कूट कर भरी हुई है। यही कारण है कि उनका नाम राष्ट्रकवियों की श्रेणी में शामिल है।

  • प्रकाशित कृतियाँ
  • समर्पण (कविता संग्रह) 1983
  • नवांकुर (कविता संग्रह) 1984
  • मुझे विधाता बनना है (कविता संग्रह) 1985
  • तुम भी मेरे साथ चलो (कविता संग्रह) 1986
  • रोशनी की एक किरण (कहानी संग्रह) 1986


अधिक पढ़े


समाचार

जॉलीग्रांट एअरपोर्ट पर बीजेपी अध्यक्ष  श्री अमित शाह जी का भव्य स्वागत

जॉलीग्रांट एअरपोर्ट पर बीजेपी अध्यक्ष श्री अमित शाह जी का भव्य स्वागत

September 20, 2017

उत्तराखंड में दो दिवसीय विस्तृत प्रवास के लिए देहरादून पहुँचने पर माननीय श्री अमित शाह जी...अधिक पढ़े

बेटियों और बेटों में हमें कोई अंतर नहीं करना चाहिए

बेटियों और बेटों में हमें कोई अंतर नहीं करना चाहिए

September 20, 2017

बेटियों और बेटों में हमें कोई अंतर नहीं करना चाहिए
अधिक पढ़े


भारत संस्कृति का प्राण है

भारत संस्कृति का प्राण है

September 20, 2017

भारत संस्कृति का प्राण है
अधिक पढ़े

भारत व् इंडोनेशिया नैनीताल में मनाएंगे टैगोर जयंती

भारत व् इंडोनेशिया नैनीताल में मनाएंगे टैगोर जयंती

September 20, 2017

भारत व् इंडोनेशिया नैनीताल में मनाएंगे टैगोर जयंती
अधिक पढ़े


और देखें

Like on Facebook

Follow on Twitter

आशीर्वचन

  • ‘‘डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, साहित्यिक विधाओं का बेजोड़ संगम हैं। उनकी कविताएं जहां एक ओर आमजन को राष्ट्रीयता की भावना से जोड़ती हैं, वहीं उनकी कहानियां पाठकों को आम आदमी के दुःख-दर्द व यथार्थता से परिचित कराती हैं। मैं गर्व से कह सकता हूँ कि मैं भारत के एक ऐसे व्यक्ति से मिला हूँ, जो विलक्षण, उदार हृदय, विनम्र, राष्ट्रभक्त, प्रखर एवं संवेदनशील साहित्यकार है।’’
    सर अनिरुद्ध जगन्नाथ, महामहिम राष्ट्रपति, माॅरिशस गणराज्य
  • ‘‘सक्रिय राजनीति में रहते हुए भी जिस तरह से डॉ ‘निशंक’ साहित्य के क्षेत्र में लगातार संघर्षरत हैं, वह आम आदमी के बस की बात नहीं है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि वे अपनी लेखनी के जरिए देश के नीति नियंताओं के समक्ष विभिन्न मुद्दों को लेकर अनेक प्रश्न खड़े करते रहेंगे।’’
    अटल बिहारी वाजपेयी, पूर्व प्रधानमंत्री, (मई 2007)
  • ‘‘डॉ ‘निशंक’ जैसे रचनात्मक एवं संवेदनशील साहित्यकार को सम्मानित करते हुए मैं गर्व का अनुभव कर रहा हूँ। डॉ निशंक द्वारा लिखी गई कहानियों को मैंने गंभीरता से पढ़ा। उनकी कहानियों में हिमालयी जीवन के दुःख-दर्द एवं जीवट परिस्थितियों का साक्षात प्रतिविम्ब देखा जा सकता है।
    -डाॅ0 नवीन रामगुलाम, मा. प्रधानमंत्री, माॅरिशस गणराज्य
  • ‘‘राजनीति में अत्यंत व्यस्त होने के बावजूद निरंतर लेखन डाॅ. निशंक की साहित्य प्रतिभा को दर्शाता है। उनका लेखन राष्ट्र और लोगों को आपस में जोड़ता है।’’
    पद्मश्री रस्किन बाॅण्ड, विख्यात साहित्यकार
  • ‘‘समर्पण एवं नवांकुर की कविताएं अत्यंत सुंदर हैं। सरल और सरस भाषा के माध्यम से कवि बहुत कुछ कह गया है।’’
    श्री हरिवंशराय बच्चन, विख्यात साहित्यकार
  • ‘‘शब्द कभी नहीं मरते। डाॅ0 निशंक के ये देशभक्तिपूर्ण गीत हमेशा के लिए लोगों की जुबां पर रहेंगे।’’
    अमिताभ बच्चन, सदी के महानायक।

संपर्क करें

हमसे जुड़े रहे

Address
37/1 Vijay Colony Ravindra Nath Tagor Marg Dehradun, uttarakhand

Email Address
rameshpokhriyal@gmail.com