डाॅ0 रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ मौलिक रूप से साहित्यिक विधा के व्यक्ति हैं। वे पिछले तीन दशक से हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कविता, उपन्यास, कहानी, लघुकथा, खण्ड काव्य, यात्रा साहित्य, पर्यटन साहित्य, बाल साहित्य तथा व्यक्तित्व विकास संबंधी साहित्य में अनवरत रूप से साहित्यसृजन कर रहे हैं।

हिन्दी भाषा एवं साहित्य के प्रति उनका अनुराग इसी बात से स्पष्ट है कि साहित्य लेखन उनके दैनिक जीवन का अभिन्न अंग है। विभिन्न विधाओं में प्रकाशित उनकी 40 से अधिक कृतियों ने उन्हें हिन्दी साहित्य में सम्मानजनक स्थान दिलाया है। राष्ट्रवाद, जीवन मूल्य, प्राकृतिक सुंदरता, ग्रामीण जीवन तथा अभावग्रस्त सामान्य व्यक्ति के सुख-दुःख तथा जीवन संघर्ष सदैव उनके साहित्य का केन्द्र रहे हैं। देशप्रेम और राष्ट्रीय एकता को दर्शतती उनकी कविताएं और कहानियां उन्हें राष्ट्रकवियों की पंक्ति में खड़ी करती हैं।


यह डाॅ0 ‘निशंक’ के साहित्य की प्रासंगिकता और मौलिकता ही है कि साहित्य के क्षेत्र में अब तक उन्हें दर्जनों सम्मान एवं पुरस्कार मिल चुके हैं। यही नहीं, उनके साहित्य को देश-विदेश में विश्व की विभिन्न भाषाओं जैसे- जर्मन, अंग्रेजी, फ्रैंच, तेलुगु, मलयालम, मराठी आदि में अनूदित किया जा चुका है। उनके साहित्य की महत्ता को देखते हुए मद्रास, चेन्नई, हैंबर्ग तथा माॅरिशस में प्राथमिक एवं उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम में इसे शामिल भी किया गया है।

डाॅ0 निशंक के साहित्य पर कई शिक्षाविद डाॅ0 श्यामधर तिवारी, डाॅ0 विनय डबराल, डाॅ0 नगेन्द्र, डाॅ0 सविता मोहन, डाॅ0 नन्द किशोर और डाॅ0 सुधाकर तिवारी आदि समीक्षात्मक शोध एवं समालोचना प्रस्तुत कर चुके हैं। जबकि विभिन्न राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों (गढ़वाल विश्वविद्यालय, कुमाऊं विश्वविद्यालय, सागर विश्वविद्यालय मध्य प्रदेश, रोहेलखण्ड विश्वविद्यालय, मद्रास विश्वविद्यालय, हैंबर्ग विश्वविद्यालय जर्मनी, लखनऊ विश्वविद्यालय तथा मेरठ विश्वविद्यालय) में शोधार्थी उनके साहित्य को केन्द्र में रख कर शोध कार्य कर रहे हैं।


डाॅ0 ‘निशंक’ की प्रथम कृति ‘समर्पण’ (कविता संग्रह) वर्ष 1983 में प्रकाशित हुआ था। । अब तक आपके 10 कविता संग्रह, 12 कहानी संग्रह, 10 उपन्यास, 2 पर्यटन ग्रन्थ, 6 बाल साहित्य, 2 व्यक्तित्व विकास सहित कुल 4 दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं आज भी तमाम व्यस्तताओं के बावजूद उनका लेखन जारी है।

डाॅ0 ‘निशंक’ की प्रकाशित प्रमुख कृतियां निम्न हैः-

  • देश हम जलने न देंगे (1988) कविता संग्रह
  • एक और कहानी (2002) कहानी संग्रह
  • सफलता के अचूक मंत्र (2010) व्यक्तित्व विकास- हिन्दी एवं अंग्रेजी
  • हिमालय का महाकुम्भः नन्दा देवी राजजात (2009) पावन पारम्परिक यात्रा
  • प्रतिज्ञा (2011) उपन्यास

 

book ganga
Bhagonwali
Bhagya Par Nahi Parishram Par Vishwas Karen (Hindi)
Safalta Ke Achook Mantra

संपर्क करें

हमसे जुड़े रहे

Address
37/1 Vijay Colony Ravindra Nath Tagor Marg Dehradun, uttarakhand

Email Address
rameshpokhriyal@gmail.com