राजनैतिक जीवन

रमेश पोखरियाल 'निशंक' भारतीय जनता पार्टी से संबंधित एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं।१९९१ में वे प्रथम बार उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए कर्णप्रयाग निर्वाचन-क्षेत्र से चुने गए थे। इसके बाद १९९३ और १९९६ में पुनः उसी निर्वाचन-क्षेत्र से उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए। १९९७ में वे उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के उत्तरांचल विकास मंत्री बनें। वह 16 वीं लोकसभा में संसद के एक सदस्य है, तथा 2009 से 2011 तक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री थे।

वर्तमान में लोकसभा में उत्तराखंड के हरिद्वार संसदीय निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करतें है और भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ सदस्य है।

  • वर्ष 1991 से वर्ष 2012 तक पाँच बार उ0प्र0 एंव उत्तराखण्ड की विधानसभा में विधायक।
  • वर्ष 1991 में पहली बार उत्तर प्रदेश में कर्णप्रयाग विधान सभा क्षेत्र से विधायक निर्वाचित तत्पश्चात लगातार तीन बार विधायक।
  • वर्ष 1997 में उत्तर प्रदेश सरकार में श्री कल्याण सिंह मंत्रीमण्डल में पर्वतीय विकास विभाग के कैबिनेट मंत्री तत्पश्चात वर्ष 1999 में श्री रामप्रकाश गुप्त की सरकार में संस्कृति पूर्त एवं धर्मस्व मंत्री।
  • वर्ष 2000 में उत्तराखण्ड राज्य निर्माण के बाद प्रदेश के पहले वित्त, राजस्व, कर, पेयजल सहित 12 विभागों के मंत्री।
  • वर्ष 2007 में उत्तराखण्ड सरकार में चिकित्सा स्वास्थ्य, भाषा तथा विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग के मंत्री।
  • वर्ष 2009 में उत्तराखण्ड प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री।
  • वर्ष 2012 में डोईवाला (देहरादून) क्षेत्र से विधायक निर्वाचित
  • वर्ष 2014 में डोईवाला से इस्तीफा देकर हरिद्वार लोकसभा क्षेत्र से सांसद निर्वाचित।
  • वर्तमान में लोकसभा की सरकारी आश्वासन समिति के सभापति।

2009 से 2011 तक उत्तराखंड के पाँचवे मुख्यमन्त्री रहें। डॉ निशंक ने मुख्य्मंत्रीकाल मे राजनैतिक कौशल, ज्ञान और ध्वनि समन्वय कौशल की सहायता से उत्तराखंड राज्य में हरिद्वार और उधम सिंह नगर को शामिल करने जैसे जटिल और संवेदनशील मुद्दों को सुलझाया। अंतरराष्ट्रीय फोरम में हिमालयी संस्कृति को लाने के लिए अनगिनत सफल प्रयास किए गए।राज्य से संचालित करने के लिए लघु उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्रीय बिक्री कर 4% से 1% कम किया । राज्य के सभी आवश्यक वस्तुओं और वस्तुओं के लिए 364 डिपो खोले और इस तरह से 61.75 करोड़ से 128 करोड़ रुपये के राजस्व में वृद्धि हुई। कुल कर संग्रहण में 575 करोड़ रुपये से 1100 करोड़ की बढ़ोतरी |

विज्ञान और प्रौद्योगिकी की सहायता से पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की जीवन शैली और जीवन शैली के स्तर को बढ़ाने के लिए कई योजनाओं को प्रारंभ किया | गंगा नदी की स्वछता तथा उसे प्रदूषण मुक्त करने के लिए स्पर्श गंगा अभियान की शुरुआत की |

डॉ निशंक द्वारा गंगा नदी की स्वछता तथा गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के लियेए स्पर्श गंगा अभियान की शुरुवात की | 2010 मे हरिद्वार मे कुम्भ मेले के आयोजन में मुख्यमंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि राज्य सरकार गंगा की स्वच्छता और निर्मलता को बनाये रखने के लिए बचनबद्घ है। गंगा को विश्व धरोहर बनाने के लिए मंत्रिपरिषद ने प्रस्ताव पारित कर केन्द्र सरकार को भेज दिया है। उन्होंने कहा कि स्पर्श गंगा अभियान के तहत लिए गए संकल्प का हम सभी को ईमानदारी से पालन करना होगा, तभी गंगा को स्वच्छ व निर्मल बनाया जा सकता है।

गंगा सफाई को बढ़ावा देने के लिए, उन्होंने 11 लाख रुपये की प्रोत्साहन की घोषणा की और ऐतिहासिक घटना बनाने के लिए उन्होंने गंगा सफाई दिवस के रूप में 17 दिसंबर को मनाने की घोषणा की।

डॉ निशंक द्वारा राज्य में गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) और गरीबी रेखा के ऊपर (एपीएल) परिवारों के लिए 'अटल खद्यान योजना' की शुरुवात जिसका लाभ उत्तराखंड के 30 लाख गरीब लोगों को मिला | इस योजना के तहत, बीपीएल और एपीएल परिवार क्रमशः आर 2 और आर 3 प्रति किलो के न्यूनतम मूल्य पर गेहूं और चावल और आर 4 और आर 6 प्रति किलो किलो खरीद सकते हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और दो पूर्व मुख्यमंत्री एन डी तिवारी और मेजर जनरल बीसी खंडुरी (शुक्रवार) के साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने शुक्रवार 2011 को देहरादून में अटल खद्यान योजना का शुभारंभ किया |

उत्तराखंड में मई 2008 से डॉ निशंक द्वारा शुरू हुई जीवीके ईएमआरआई के जरिये संचालित 108 एंबुलेंस सेवा ने अब तक 11 लाख लोगों को आपातकालीन सहायता देने का आंकड़ा पार कर लिया। इसके साथ ही 108 से अभी तक प्रदेश में 28300 लोगों को जीवनदान मिल चुका है। जीवीके ई.एम.आर.आई. 108 आपातकालीन सेवा ने 11 लाख से अधिक आपातकालीन मामलों में पीड़ितों को सहायता प्रदान कर एक नया कीर्तिमान भी स्थापित कर लिया है।

आज, 108 सर्वश्रेष्ठ श्रेणी के आपातकालीन सेवा के साथ पर्याय बन गया है और इसे अपनी श्रेणी में सबसे कुशल, शीघ्र, विश्वसनीय और देखभाल सेवा प्रदाता के रूप में स्वीकार किया गया है।


संपर्क करें

हमसे जुड़े रहे

Address
37/1 Vijay Colony Ravindra Nath Tagor Marg Dehradun, uttarakhand

Email Address
rameshpokhriyal@gmail.com